बचके रहना रे बाबा, तुझपे नजर है…

अब आएगी फर्जी पत्रकारों की शामत, बंद होगी दलाली

0 653

एसपी ने जारी की एडवायजरी, जर्नलिस्ट एसोसिएशन भी सौंपेगा ज्ञापन

 

शामली जनपद में बढ़ते दलाल और फर्जी पत्रकारों से जनता त्राहि—त्राहि कर रही है. आलम यह है कि यें फर्जी और दलाल पत्रकार अपने फायदे के लिए शांति व्यवस्था को चुनौती देने से भी बाज नही आ रहे हैं. लोगों से उगाही के साथ—साथ दलाली चमकाने वाले यें लोग पत्रकार का चोला पहनकर पत्रकारिता को भी बदनाम करने पर तुले हुए हैं. एसपी ने ऐसे तथाकथित पत्रकारों के खिलाफ एडवायजरी जारी करते हुए जनता को सर्तक कर दिया है. उत्तर प्रदेश जर्नलिस्ट एसोशियन भी पत्रकारिता पेश को कलंकित करने वाले दलालों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. शीघ्र ही एसोसिएशन द्वारा ऐसे लोगों के खिलाफ जिला पुलिस—प्रशासन को ज्ञापन सौंपकर कार्रवाई की मांग की जाएगी.

एसपी ने जारी की यह एड्वायजरी, आएगी शामत
शामली एसपी अजय कुमार ने जिले के लोगों को सावधान और जागरूक करने के लिए फर्जी व दलाल पत्रकारों के खिलाफ एड्वायजरी जारी की है। एसपी ने बताया कि उन्हें जिले में सेवा करते हुए आठ माह से अधिक का समय हो गया है. उन्होंने बताया कि इस दोरान उनके निर्देशन में नशाखोरी, जुआ—सट्टा, शराब, अवैध खनन, ओवरलोडिंग व दुर्दांत अपरा अपराधियों के खात्मे के लिए बड़े अभियान चलाए। उन्होंने बताया कि वें वास्तविक मीडिया बंधुओं का बहुत आदर करते हैं, तथा उनकी सुरक्षा के लिए सदा प्रतिबद्ध है, लेकिन बड़े ही दुख की बात है कि कुछ तथाकथित मीडिया के लोग जो वास्तव में दलाली के ही कामों में आकंठ डूबे हुए हैं और नकारात्मकता और घृणित सोच वाले लोग हैं. ऐसे लोगों के द्वारा निजी स्वार्थों के गंदे दलदल में धंसकर समाज में नकारात्मकता फैलाने की नाकाम कोशिश की जा रही है. उन्होंने जनता को ऐसे लोगों से सावधान रहने के लिए प्रेरित किया. एसपी ने बताया कि मैं आपको भरोसा दिलाता हूं कि आप बिल्कुल मत डरिए. ऐसे तथाकथित, फर्जी मीडियाकर्मियों द्वारा अवैध वसूली के लिए ब्लैकमेल किए जाने पर, कॉल करके आपका मानसिक उत्पीड़न किए जाने पर या पुलिस—प्रशासन के नाम पर धमकाने पर ऐसे मामलों को उजागर करने की जरूरत है. उन्होंने जनता से अपील की है कि वें उनके आॅफिस में आकर इस तरह के मामले उन्हें बता सकते हैं, जिससे जनता की शत प्रतिशत मदद की जाएगी. सूत्रों के अनुसार एसपी द्वारा एडवायजरी जारी करने बाद शीघ्र ही उत्तर प्रदेश ज​र्नलिस्ट एसोएिशन द्वारा भी जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपकर फर्जी और दलाल पत्रकारों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की जाएगी.
रूपयों की खातिर करा सकते हैं दंगा
शामली जिले में ऐसे तथाकथित लोग पत्रकार बनकर सिर उठा रहे हैं, जिनकी एजुकेशन दसवीं पास भी नही है. कई त​थाकथित लोग तो दलाली की चमक को देखते हुए अपने मूल कामों को छोड़कर पत्रकारिता के पेशे को कलंकित करने पर जुट गए है. ऐसे लोग रूपयों की खातिर दंगा तक करा सकते हैं. इनमें कुछ ऐसे लोग भी शामिल है, जो अपने अवैध धंधों को छिपाने के लिए और अधिकारियों पर रौब गालिब करने के लिए पत्रकार बन गए हैं. गांवों में केबिल चलाने वाले और राशन बांटने वाले भी आजकल अपने अवैध धंधों को छिपाने के लिए पत्रकार बन गए हैं.

इनकी वजह से सिर उठा रही फर्जी खबरें
दलाल और फर्जी पत्रकारों की वजह से शामली जिले में फर्जी खबरें सिर उठाती नजर आती है. कुछ फर्जी पत्रकार पति—पत्नी के विवाद को मनचले युवक की छात्रा से छेड़छाड़ का बताकर बार—बार माहौल बिगाड़ने के लिए अलग—अलग खबरे चला रहे हैं, वहीं कुछ फर्जी पत्रकार आरोपियों की पैरवी करने के लिए पलायन की तस्वीरें भी पैदा कर देते है। हाल ही में पुलिस आॅफिस पर मां—बेटी द्वारा जहर खाने की वारदात में भी बड़ा खुलासा हुआ है. बताया जा रहा है कि इस मामले में एक दलाल पत्रकार ने अपना मतलब साधने के लिए मां—बेटी को जहर लाकर दिया था. उसके द्वारा ही पूरा ड्रामा रचा गया था. जिले में शनिवार को भी तथाकथित पत्रकार की दलाली से जुड़ा एक मामला सुर्खियों में रहा, जिसमें दलाल ने पांच हजार रूपए लेने के बाद फर्जी खबर चलाकर लोगों की भावनाओं को भड़काने की कोशिश की.

माफियाओं से प्रतिमाह वसूलते हैं लाखों
शामली​ जनपद में अवैध रेत खनन, शराब और नशे से जुड़े कई माफियाओं से भी पत्रकारों की वसूली सामने आती रहती है. कई पत्रकार तो अवैध वसूली के लिए कैराना, झिंझाना की खानों तक भी चक्कर काट देते हैं. अगर माफियाओं से लेन—देने सैट हो जाए, तो ठीक वरना खुद को पत्रकार बताकर अपना रौब गालिब करते हैं. थानों पर जनता को मिलने वाले सुलभ न्याय में भी यें दलाल पत्रकार बाधक बन रहे हैं.

 

हिंद न्यूज की प्रतिक्रिया
शामली एसपी अजय कुमार ने सोशल मीडिया पर फर्जी और दलाल पत्रकारों के खिलाफ जो एडवायजरी जारी की है, वह काबिले तारीफ है. इससे जनता को ऐसे लोगों से सर्तक रहने की प्रेरणा मिलेगी, लेकिन एसपी साहब ने जितनी जल्दी इस एडवायजरी को जारी करने में दिखाया है, उतना ही जल्दी ऐसे फर्जी और दलाल पत्रकारों के खिलाफ फौरन कानूनी कार्रवाई अमल में लाकर दिखाने की जरूरत है, ताकि मीडिया के चौथे स्तंभ को बदनामी का दंश ना झेलना पड़ेगा. यहां तक की सभी सरकारी कार्यालयों की दलाली करने वाले तथाकथित मीडियाकर्मियों को मुकदमों की सौगात देकर जेल की हवा खिलाने का हम पुरजोर समर्थन करते हैं।
— पंकज वालिया, एडिटर इन चीफ, हिंद न्यूज टुडे

Leave A Reply

Your email address will not be published.